Connect with us

Hi, what are you looking for?

केसरिया भारत: राष्ट्रीयता के पक्के रंगकेसरिया भारत: राष्ट्रीयता के पक्के रंग

अभी-अभी: घटनाक्रम

पूर्वसंध्या

जब भी ये खुशिया, जब भी ये उल्लास इस बेलगाम रफ्तार से आता है, खुद से इतना जरूर पूछियेगा कि आपका इन खुशियों पर कितना अधिकार है? नहीं। एक कमजोर से लेखक का आपको ये कहना अलग है  कि वो आपका भय दुहता नहीं है बल्कि अपना डर कहता है।

जब-जब एक वर्ष गुजरता है दिल सोचता है कि अगले बरस फिर कब यहां पहुंचूंगा, कितने घाव नए मिले होंगे, कितने दर्दों से नया रूबरू हो चुका होऊंगा। ये पूर्वसंध्या एक नए सुबह की नहीं, एक अंधेरी रात की भी हो सकती है। कब तक एक थके बीमार शरीर को सुबह की किरणों से तपाकर चलाया जा सकता है? कब तक एक कमजोर दीवार को टूटने से बचाया जा सकता है? कभी-कभी लगता है कि जनता को इस आनंदवादी दर्शन से बाहर आना होगा और सच्चाई से नजर मिलाना होगा। नहीं। पेट और पैसा ही पहली और आखिरी समस्या है, ऐसी बात नहीं है। कई बार समस्याएं ऐसी जटिल होती हैं कि उन्हें अनुभव करना मुश्किल हो जाता है। जब भी ये खुशिया, जब भी ये उल्लास इस बेलगाम रफ्तार से आता है, खुद से इतना जरूर पूछियेगा कि आपका इन खुशियों पर कितना अधिकार है? नहीं। एक कमजोर से लेखक का आपको ये कहना अलग है कि वो आपका भय दुहता नहीं है बल्कि अपना डर कहता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement

Trending

धर्म: आख्यान व प्रमाण

मूर्ख-पत्रिका के पन्ने

अभी-अभी: घटनाक्रम

You May Also Like

धर्म: आख्यान व प्रमाण

बिना किसी हेतु के भले कर्म करें, भली जिंदगी जियें। आपको अवसर मिला है, यही आपका पारितोषिक है! न कोई शरीर-धारी किसी को कुछ...

मूर्ख-पत्रिका के पन्ने

कभी-कभी हम गलतियां और मूर्खताएं करते हुए इतने आगे बढ़ जाते हैं कि वापस आने में कई गुना मेहनत लग सकती है। न केवल...

अभी-अभी: घटनाक्रम

ऐसे रोबोट भारत और विश्व में शांति हेतु काम किए जा रहे हैं, इनसे प्रोत्साहित न हो वरना किसी दिन अगर शौचालय में आपका...

अभी-अभी: घटनाक्रम

अगर अब जीना नहीं सीख सके तो विनाश के लिए तैयार रहिए। जब विध्वंस के बाद हम गिरेंगे तो फिर हमारी खुदाई भी होगी...

केवल सोद्देश्य रचनात्मकता / साहित्यिक समीक्षाएं व आलोचनाएँ। प्रस्तुति एवं Copyright © 2022 Mrityunjay Mishra